Akshay Kumar Biography in Hindi

Akshay Kumar Biography in Hindi

Akshay Kumar ने पिछले 22 23 सालों में 120 से भी ज्यादा फिल्में की हैं और फिल्म इंडस्ट्री में आने से पहले भी उन्हें अपने लाइफ में बहुत पापड़ बेले थे ।

अक्षय का एक समय पर As a Shef काम करना तो ऑलमोस्ट सबको पता है लेकिन जो ज्यादातर लोगों को नहीं पता वह यह है कि अक्षय बांग्लादेश के ढाका में काम करते थे और कोलकाता में भी काम किया करते थे और मोहम्मद अली रोड पर कुंदन की ज्वेलरी भी बेचते थे जो वो दिल्ली से लाते थे ।


उनका शुरू से पढ़ाई में ज्यादा इंटरेस्ट नहीं रहा इसलिए उन्होंने 12th के बाद पढ़ाई ड्रॉप करके खुद के लिए छोटे-मोटे काम करने शुरू कर दिए । वो फिर चार-पांच साल के लिए बैंकॉक चले गए और वहां उन्होंने काम करने के साथ-साथ मार्शल आर्ट्स भी सीखा ।

उस समय ₹22000 की प्लेन की टिकट होती थी और अक्षय को बैंकॉक भेजने के लिए उनके फादर को 18000 का कर्ज भी लेना पड़ा । फिर उन्हें मुंबई में एक Metro Guest House Restaurant मैं जॉब भी मिल गई तो वो वहां से चले गए और उसी रेस्टोरेंट के ऊपर उन्हें एक कमरा भी दे दिया गया था जिसमें 56 लड़के रहा करते थे वहां से वो फिर ढाका चले आये I उस समय वह सरवाइव करने के लिए Aimlessly बड़े सारे काम करते चले जाते थे ।

अक्षय ने ठान लिया था कि मुझे कुछ भी काम मिल जाए मैं वो अपनी पूरी जी जान से करूंगा और लाइफ में आगे बढूंगा अब चाहे मुझे उसके लिए इधर से उधर ही क्यों न भटकना पड़े ।

Akshay Kumar नहीं मुंबई में शाम को कुछ स्टूडेंट्स को मार्शल आर्ट्स सिखाना शुरू करा और 1 दिन उन्हीं में से किसी एक स्टूडेंट ने उनका नाम मॉडलिंग असाइनमेंट के लिए रिकमेंड कर दिया और उन्हें वह मॉडलिंग असाइनमेंट भी मिल गया ।

उन्होंने अपना सूट पूरा किया और एजेंसी वालों ने उन्हें 21000 रुपए का चेक पकड़ा दिया तब उन्हें यह रिलाइज हुआ कि यार मैं महीना भर काम करके 6000 रुपए तक कमाता हूं और यहां इन लोगों ने मुझे AC रूम में बिठाकर के 2 दिन शूट करवाया और इसके मुझे 21000 रुपए दे दिए वही एक मोमेंट था जब उन्होंने अपने अंदर यह डिसाइड कर लिया था कि अब मुझे किसी तरह से इसी काम में सेट होना है ।


उसके बाद उन्होंने वहां एक well known still Photographer के यहां as a Assistant काम करना शुरू कर दिया और कुछ समय में अक्षय के काम से इंप्रेस होके उस फोटोग्राफर ने उनका Juhu Beach पर एक फ्री Portfolio शूट करा जिसमें सबसे मजेदार बात यह रही कि जब वो दीवार के पास अपनी पहली फोटो क्लिक करवा रहे थे तो एक सिक्योरिटी गार्ड आकर उन्हें वहां से हटाने लगा यह कह के कि यह प्राइवेट जगह है तू यहां से चला जा यहां फोटो वोटो नहीं खींच सकता तू और यह बिल्कुल इत्तेफाक की बात है कि आज अक्षय का घर वही दीवार और वही जमीन पर है ।

धीरे-धीरे अक्षय को थोड़े बहुत मॉडलिंग असाइनमेंट मिलते चले जा रहे थे और एक दिन उनके हाथ एक अच्छा सा असाइनमेंट लगा जिसमें उन्हें शाम को 6:00 बजे फ्लाइट पकड़ के बेंगलुरु जाना था ।

उसी दिन सुबह 5:15 बजे उनके घर की घंटी बजती है और कोई उन्हें फोन पकड़ आता है और सामने से आवाज आती है Where are you ! You know it is very unprofessional people like you and that’s why you will never be able to work तब उन्हें पता चला कि सुबह 6:00 बजे की फ्लाइट थी उसके बाद वो रोए और बकायदा उन से विनती की कि मैं आ रहा हूं मैं अभी आता हूं आप प्लीज़ समझिए मैं मोटरसाइकिल आता हूं और मोटरसाइकिल वहीं छोड़ दूंगा और Obviously जब तक वो पहुंचे फ्लाइट निकल चुकी थी उस समय उन्हें बहुत बुरा लग रहा था कि मैं सही वक्त पर पहुंच नहीं पाया और मेरी समझने में गलती हो गई ।

उनके पिता ने फिर उनसे कहा कि कोई बात नहीं बेटा जो भी होता है अच्छे के लिए होता है । उसी दिन अक्षय शाम के वक्त टहलते हुए साडे 4:00 बजे Natraj Studio पहुंचे और पहुंच 5:15 बजे वहां Pramod Chakravorty के कंपनी में मेकअप मैन Narendra दादा ने उन्हें बोला बेटा हीरो बनना है ।

उन्होंने उनकी फोटो देखते हुए कहा 1 मिनट दादा को दिखा कि आता हूं दादा को दिखाकर वापस आए और कहा दादा ने बुलाया है अंदर वो अंदर चले गए और दादा ने उन्हें देखते हुए बोला फोटो अच्छी है तुम्हारी हीरो बनोगे अक्षय ने कहा हां जी बनूंगा और उसी समय दादा ने एक चेक साइन किया 5001 रुपए का और उन्हें देते हुए कहा कि मैं 3 फिल्म बनाऊंगा आपके साथ और यह मेरी तरफ से आप की पहली फिल्म की साइनिंग अमाउंट और यहां भी एक इत्तेफाक की बात है कि अक्षय ने चेक ले लिया और उस समय 6:00 बजे हुए थे अगर वो सुबह 6:00 बजे की फ्लाइट पकड़कर निकल गए होते तो आज वो बेंगलुरु में कहीं मॉडल होते लेकिन उनके हाथ से वो फ्लाइट निकल गई और वो यहां रह गए और उन्हें दादा की फिल्म मिल गई उसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा उसके बाद 1, 2, 3, 120 बस चलते रहे ।

Akshay Kumar का कहना है कि आप बस अपना काम करते रहिए काम करते रहिए काम करते रहिए कहीं ना कहीं नतीजा जरूर पड़ा हुआ है ।

तो दोस्तों यह थी कहानी हमारे देश के कुछ सबसे अच्छे खिलाड़ियों में से एक Akshay Kumar की जिंदगी की । तो दोस्तो अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आई हो तो आप इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर कीजिएगा धन्यवाद ।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *